Saturday, December 13, 2008

Apne...

~ To read the poem, click on the picture. ~
© Rajat Narula – 15th Nov’08

1 comment:

राजीव तनेजा said...

बहुत ही सही कहा आपने...अपनों के बगैर भी क्या ज़िन्दगी है?