Monday, July 6, 2009

Aa Jao laut kar tum...


~ To read the poem, click on the picture. ~

9 comments:

Dhiraj Shah said...

अच्छी कविता & nice post

M.A.Sharma "सेहर" said...

Roomaniyat aur dard ko jeete sundar abhivyakti !!

u write wonderfully good !

संजीव गौतम said...

रजत भाई बहुत डूबकर लिखते हो. ये संवेदनायें आपके व्यक्तित्व के विषय में बहुत कुछ कह रही हैं. क्या आप ग़ज़लें भी कहते है?

‘नज़र’ said...

अच्छी कविता और अंदाज़ निराला

कुलदीप "अंजुम" said...

rajat ji apki sabhi kavitayein lazabab hain
bahut hi sundar rachna

Dimps said...

Hi,

I do not know which adjective to use!! It is amazing and sensitive.

Hats off!
Rgds,
Dimple
http://poemshub.blogspot.com/

Sheena said...

bahut hi achhi kavita ..
I like ur way and presentation of writings..
good work.

mere blogs par aapka swagat hai...
http://sheena-life-through-my-eyes.blogspot.com
http://hasya-cum-vayang.blogspot.com/
http://mind-bulb.blogspot.com/

Reetika said...

mere aanganki mitti, mehakti hai teri khushboo se aaj bhi...

isi se milte julte bhaav humne bhi kabhi likhe they...kabhi fursat mein padhiyega mera blog..

तेरी खुशबू से आबाद है दिन औ रात आज भी
छूकर तुझको जो चला गया वक्त
जेहन में बसता है वो मेरे आज भी
गुज़रे पलों के हर्फों में तुम्हे तलाशना
खुशी के वास्ते यह सिलसिला जारी है आज भी
मौसम के हर रंग पर, दिल की हर उमंग पर
लिखती हूँ तेरा नाम आज भी
मंजिलों को भूल चुकी हूँ मैं
मुसाफिरों के लिए तेरे रास्ते की चाहत बाकी है आज भी

123 123 said...

Nice post as for me. I'd like to read something more about that theme. Thanks for sharing this info.
Sexy Lady
Escorts UK