Tuesday, October 19, 2010

Kaksha se jeewan pariksha tak...

13 comments:

Udan Tashtari said...

दोनों ही ज्ञान आवश्यक हैं..सामनजस्य जरुरी है फिर किस्मत अपनी अपनी..

मनोज कुमार said...

व्यावहारिक ज्ञान की भी ज़रूरत है।

manu said...

hamne jab ganit ke teacher ko kahaa ki hamein MURGAA bannaa nahin aataa....

to jhat se hamaare aage wo MURGAA ban gaye..aur bole.....

dekh ....aise bante hain MURGAA...

.....!!


hamaari buri haalat thi hansi ke maare...


:)
:)

manu said...

:)

arun c roy said...

सुंदर विवेचना.. दोनों शिक्षा पद्धति की अपनी कमियाँ हैं.. अपनी खासियत हैं.. संतुलन आवश्यक है.. सुंदर कविता..

M.A.Sharma "सेहर" said...

hmmmm after a long....:))

Though i never went through wd ds experiences ...but well saw ...haha

last para is soo true n clear !!

Anonymous said...

bachpan ki komal bhavnaoo ko kitabon ke bojh ke neeche dabte dekha hai humne,

Aapki kavita mein yeh dikhlayi padta...

it was good to read your poem..

Your Secret Fan.

डॉ० डंडा लखनवी said...

हमारी शैक्षिक और सामाजिक व्यवस्था पर एक करारा चाटा है--"कक्षा, परीक्षा में हर साल अव्व्ल आने वाले कई धुरंधर, जिंदगी की दौड़ में पीछे क्यों रह गए यह एक बड़ा सवाल है।" उद्देश्यपरक रचनात्मक प्रस्तुति हेतु साधुवाद!
सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

डॉ० डंडा लखनवी said...

हमारी शैक्षिक और सामाजिक व्यवस्था पर एक करारा चाटा है--"कक्षा, परीक्षा में हर साल अव्व्ल आने वाले कई धुरंधर, जिंदगी की दौड़ में पीछे क्यों रह गए यह एक बड़ा सवाल है।" उद्देश्यपरक रचनात्मक प्रस्तुति हेतु साधुवाद!
सद्भावी-डॉ० डंडा लखनवी

Sanuli said...

Bahot Khub... :)
Go thr my blog also...
http://www.niceshayari-poems.blogspot.com/

mridula pradhan said...

bahut achcha likhe hain.

$ChiTas$ said...

Bahot hi sahi sawaal hai shiksha par.....
Khaas kar ke aakhiri wali 4 line....

keep it up

--Chaitali

Narendra kumar jat said...

Rajat ji bahut badiya likha hain. aaj ki education tradiation tarike se hi ho rahi hain. very very nice. R.T.E. policy cuntry mai lagu ho gai hian lekin Dhak ke teen paat savit ho rahi hain.